Monday, 14 November 2016

सुनो ! तुम प्यार करती हो करो या ना करो ! लेकिन तुम्हारा साथ मुझको चाहिए हक की लड़ाई में

No comments: